Sad Shayari on Love 100+ Shayari On Love

Sad Shayari on Love -To share your sadness, We have a finest collection of Sad Shayari, Sad SMS and WhatsApp Sad Status in Hindi and English script.
Sad shayari on love for true love boys and girl for Heart torching Shayari on love.

Sad Shayari On Love +100

पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है.
वो अपना हो न हो…दिल पर राज हमेशा उसी का रहता है।

दिल के दर्द को शब्दों में डाला नहीं गया
गम के ऑंसुओं को आँखों से निकाला नहीं गया
उसने मुझे दर्द इसलिए दिया इतना
क्योंकि उस से मेरा प्यार सम्बाला नहीं गया

बहुत हँसा था मैं,
जिनको भी हंसाने के लिए.
वहीं छोड़ गए हैं मुझे आज,
तन्हाई मैं आंसू बहाने के लिए.

वह हँसते हैं हमारे सामने,
शायद हमें तड़पाने के लिए.
पर हम तो कम्बख्त रो भी नहीं सकते,
ज़माने को गम दिखाने के लिए.

खुशियाँ सब वह ले गए,
अश्क हैं बस अब मेरे लिए.
पर यहअश्क भी अब नहीं देते हैं साथ,
इन आँखों से अश्क बहाने के लिए.

बड़े सम्भाल कर रखे थे कदम हमने,
उनके साये को भी बचाने के लिए.
पर आज अपना ही साया साथ छोड़ गया,
हमें तन्हाई का एहसास दिलाने के लिए.

रुके थे हम हर मोड पर,
उनके इंतज़ार के लिए.
आज छोड़ गए हैं वह एक नए मोड़ पर,
ज़िन्दगी भर इंतज़ार करवाने के लिए

बहुत खुशियाँ हैं आस-पास,
मुझे खुश करने के लिए.
फिर भी कोई वजह ढूंढ़ता हूँ,
शायद मैं मुस्कुराने के लिए.

कुछ यादें होंगी उनके पास भी,
हमें याद करने के लिए.
पर वह कभी हमें न याद कर पाएंगे,
ढूंढेंगे किसी बहाने के लिए.

कभी तो वह भी सोचेंगे,
हमारे पास वापिस आने के लिए.
लेकिन तब हम होंगे ही नहीं,
उनको पछताने का मौका देने के लिए.

ज़िंदा लाश है अब तो यह जिस्म,
आपने ही भोज़ा ढोने के लिए.
थोड़ी सी जमीन तलाशता हूँ,
खुद को दफनाने के लिए.

यूँ हाथ की खामोश लकीरों मैं आ गया
लफ़्ज़ों की रहा से गुजरेवह दिल में समा गया

जो नुक्ता सोचता रहा मैं तमाम उमर
लम्हों में सारा फलसफा मुझ को बता गया

यूँ चाहतें समेट लें दामन-इ-यार ने
बख्शी क़बूलियत दिल-इ-बे-इख़्तेयार ने

पुरखर रास्तों पे भी चलना क़बूल है
काँटों की रहगुज़र से उलझना सिखा गया
यूँ फलसफ़ा हयात का मुझ को बता गया
यूँ हाथ की खामोश लकीरों मैं आ गया

अगर किसी दिल पर दिल फ़िदा होता है,
मगर प्यार करने का तौर जुड़ा होता है,
आदमी लाख सम्भलने पर भी गिरता है,
झुक कर जो उठाले वो खुदा होता ही

रस्म-इ-उल्फ़त सिखा गया कोई,
दिल की दुनिया पे छा गया कोई,
ता क़यामत किसी तरह न बुझे,
आग ऐसी लगा गया कोई…

कभी कभी मैं तुम्हे देखता हूँ
और सोचता हूँ की तुम सिर्फ मेरे लिए बने हो
लेकिन फिर सोचता हूँ के
तुम तो मेरे दिल के लिए बने हो

हर पल दिल में तस्वीर आपकी होती है
हर नज़र पर इश्क़ का पहरा होता है
जब-जब टूटता है दिल मेरा
तो हर बार की तरह नाम तेरा होता है

कुछ मतलब के लिए ढूँढ़ते हे मुझको
बिन मतलब जो आए तो क्या बात है
कतल करके तो सब ले जाएँगे दिल मेरा
कोई बातों से ले जाये तो क्या बात हे

दिल पर किसी का जोर नहीं होता
दिल की आवाज़ों से शोर नहीं होता
इस दिल के खोने का गम करे भी तो कैसे
क्योंकि दिल चुराने वाला भी चोर नहीं होता

Leave a Comment