Romantic Shayari for Husband

Romantic Shayari for Husband

तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा,
कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है।

मेरी आधी फिक्र, आधे ग़म तो यूँही मिट जाते हैं…
जब प्यार से तू मेरा हाल पूछ लेती है!!

तू ही मेरी ज़िन्दगी है, तू ही मेरी जान है ,
मुझको तू मिल जाये मेरा यही एक अरमान है …

तेरी चाहत तो मुक़द्दर है, मिले न मिले;
राहत ज़रूर मिल जाती है, तुझे अपना सोच कर…

लाजिमी नहीं की आपको आँखों से ही देखुं।
आपको सोचना आपके दीदार से कम नहीं।।

हम ये नहीं चाहते कि कोई आपके लिए दुआ ना मांगे;
हम तो बस इतना चाहते है कि कोई दुआ में आपको ना मांगे।

अपनी दोस्ती का बस इतना सा उसूल है…
ज़ब तू कुबूल है तो तेरा सब कुछ कुबूल है….

सुना है तुम ले लेते हो हर बात का बदला…
आजमाएंगे कभी तुम्हारे लबो को चूम कर…

इन होंठो को परदे में छुपा लिया कीजिये…
हम गुस्ताख लोग हैं नजरों से चूम लिया करते हैं…

मैंने तो देखा था बस एक नजर के खातिर….
क्या खबर थी की रग रग मे समां जाओगे तुम….

तुम जब भी मिलो तो नजरे उठा कर मिला करो जान-ए-जाना
मुझे पसंद है तुम्हारी आँखों में अपना चेहरा देखना…..!!

वो मेरे साथ ही रहता है जहाँ तक जाऊं,
मैं हूँ दरिया तो है वो शख्स किनारा मेरा…

कह दो अपने दांतों को, क़ि हद में रहें,
तेरे लबों पे बस मेरे लबों का हक़ है…

तेरे वजूद में मै काश यूं उतर जाऊ…,
तू देखे आइना और मै, तुझे नज़र आऊ.

सुना है तेरी सूरत को देखने वाले.,
कोई और नशा नहीं करते।

उसका हँसकर नज़र झुका लेना,
सारी शर्ते कुबूल हो जैसे l

वो मेरे साथ ही रहता है जहाँ तक जाऊं,
मैं हूँ दरिया तो है वो शख्स किनारा मेरा…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *